घास

फ़ैल सकती है

बिना बाड़ के / सहारे के,

जूझ सकती है

जीवन-झंझावातों से

घास भी निर्बाध,

गर

छोड़ दें लोग

उसे रोंदना / काटना ।

Leave a Reply