जिन्दगी

कलेण्डर सी

दीवार पर

टंगी है – जिन्दगी

दिन-दिन

बदलती है ।

Leave a Reply