नीचा ही देखा

जिसे बैठाया था

सादर, ससम्मान

सर – आँखों पर

आसमाँ में,

उसने जब भी देखा

मुझे नीचे ही देखा ।

Leave a Reply