लकीरें

छोड़ो

पढना-पढवाना

लकीरें हाथों की

ये सब-

बातें हैं बातों की

लो-

कर्म छैनी, हुनर हथौड़ा

बुनो सपने

और

गढो

इरादों का इतिहास नया ।

 

Leave a Reply