अबोध-अंजनहारी

अथ-अद्यापि

अंबुज आभा अयासी

अबोध अंजनहारी

अबाध अभिग्रहित

आलोकी अहेरी अंग ।

Leave a Reply