माँ कभी बूढ़ी नहीं होती

माँ जैसी होती है साठ साल पहले,

वैसी ही होती है साठ साल बाद भी,

माँ का चेहरा कभी थोड़ा बदल जाता है,

या कमर थोड़ी झुक जाती है,

चाल भी थोड़ी धीमी हो जाती है,

लेकिन उसकी कोई उम्र नहीं होती,

माँ केवल माँ होती है, माँ कभी बूढ़ी नहीं होती |

माँ का दिल वही है जो साठ साल पहले था,

आज भी दिल वही है साठ साल बाद भी,

उसकी धड़कन जो साठ साल पहले थी,

आज भी वही है साठ साल बाद भी,

उसकी आखें जैसी चमकती थी साठ साल पहले,

वैसी ही चमकती है साठ साल बाद भी,

उसे जो कष्ट होता था साठ साल पहले,

वही कष्ट होता है साठ साल बाद आज भी |

माँ केवल माँ होती है, माँ कभी बूढ़ी नहीं होती |

मेरे देर से आने पर अधीर होती थी जैसे साठ साल पहले,

वैसे ही अधीर हो जाती है वह आज भी,

मैं कहीं खो न जाऊं डरती थी जैसे साठ साल पहले,

वैसे ही डरती है वह आज भी,

मैं भूखा न सो जाऊं सोचती थी जैसे साठ साल पहले,

वैसा ही सोचती है वह साठ साल बाद आज भी,

मैं एक बड़ा आदमी बनूँ सोचती थी जैसे साठ साल पहले,

मैं ओर तरक्की करूँ आशीर्वाद देती है वह आज भी,

माँ केवल माँ होती है, माँ कभी बूढ़ी नहीं होती |

मुझे बुरी नज़रों से कोई न देखे बचाती थी जैसे साठ साल पहले,

मुझे बुरी नज़रों से कोई न देखे कोशिश करती है वह आज भी,

लोरी सुना कर सुलाती थी मुझे जैसे साठ साल पहले,

पौराणिक कहानियाँ सुना कर सुलाती है वह आज भी,

मैं उसके पाँव छूकर गीत गाता था जैसे साठ साल पहले,

मेरी अभिलाषा है वही गीत गाता रहूँ मैं आज भी,

माँ सोचती थी जैसे साठ साल पहले,

वैसी अनुकम्पा बनी रहे आज भी,

माँ केवल माँ होती है,

उसकी कोई उम्र नहीं होती,

माँ कभी बूढ़ी नहीं होती |

Leave a Reply