शायरी

मौला ना कर दरबदर इतना कि,
                             दर तक ना अपने ही जा सकूँ,
बख्स दे इतनी रहमत मुझे कि,
                             उन्हें बाँहों का हार पहना सकूँ,
जज्बात में किसी की मैं आ सकूँ,
कभी अपने लिए मुस्कुरा सकूँ .
                             :-सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply