विशेष पूर्ण दृष्टि

तीसरि दशम दृष्टि शनिदेवा |पंचम नवम दृष्टि गुरुदेवा ||
अष्टम चौथि द्रष्टि कुज जाना |मंगल गृह सेनापति माना ||

Leave a Reply