वो तेरा था नही..

तेरा वजूद तुझसे कोई छीन सकता नहीं,
चलते रहना हर पल इस सफर को कभी तू रोकना नहीं !!

चाहे जितना भी प्यार तुझे उससे हो, ये मान ले उसे तुझसे नही,
अब याद करके उसे रोना, ये जिन्दगी का फल्सफा नही !!

अश्को का समंदर ही मिला है कोई दरिया तो नहीं,
खुश रहो जिन्दगी मे क्योंकि, जो गया है वो तेरा था ही नहीं !!

अपने कभी दूर जाते नही,वो अपने नहीं जो रूठों तो मनाते नहीं,
जो यादो को सन्जोकर न रखे, वो पत्थर है उसके सीने मे दिल नहीं !!

तेरे सपनो को रोंदा है जिसने ऍ दिल, रख भरोसा उसके भी सपने कभी पूरे होंगे नहीं,
दिल जो तोडते है अपनी बातो से, कह्ती है मुस्कान कभी उनसे दिल दुबारा लगाना नहीं !!

2 Comments

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' Gurcharan Mehta 28/07/2013
    • Muskaan 28/07/2013

Leave a Reply