और तो कोई बस न चलेगा

और तो कोई बस न चलेगा हिज्र के दर्द के मारों का.
सुबह का होना दूभर कर दें. रस्ता रोक सितारों का|

झूठे सिक्कों में भी उठा देते हैं अक्सर सच्चा माल,
शक्लें देख के सौदा करना काम है इन बंजारों का|

अपनी ज़ुबाँ से कुछ न कहेंगे चुप ही रहेंगे आशिक़ लोग,
तुम से तो इतना हो सकता है, पूछो हाल बेचारों का|

एक ज़रा सी बात थी जिस का चर्चा पहुँचा गली गली,
हम गुमनामों ने फिर भी एहसान न माना यारों का|

दर्द का कहना चीख़ उट्ठो दिल का तक़ाज़ा वज़’अ निभाओ,
सब कुछ सहना चुप-चुप रहना काम है इज़्ज़तदारों का|

Leave a Reply