सपनो के टूटने ….

आती है समझ जब दुनिया क्यो देर बहुत हो जाती है,
सपनो के टूटने की आहट क्यो दूर तलक नही जाती है,
शक्सियत मेरी कुछ ऐसी है जो सच के आइने मे खो जाती है,
पर्छाइयो के पीछे भागते भागते अपनी पह्चान ही खो जाती है !!

13 July 2013

One Response

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' Gurcharan Mehta 13/07/2013

Leave a Reply