जीना है पगले अपने लिये

ठगा है तुमको किसीने तुम क्यो जिन्दगी को ठगते हो,
जीना है पगले अपने लिये क्यो किसी के लिये मरते हो !!

सफर सुहाना राह देखता उसको क्यो भूले हो,
भूलना है तो भूलो उसको तुमको जो भूला हो !!

साथी सपने पालो ऐसे साथ तेरे जो खडे हो,
दुनिया साथ छोड भी जाये रब का साथ सदा हो !!

राहे नयी दस्तक दे रही क्यो पिछ्ले को पकडे हो,
आगे बडना जीवन है बस वही तेरा मक्सद हो !!

बीत गयी जो रात गयी नया सवेरा तेरा हो,
मुस्कान रहे सदा होठो पे, गम का कोई निशान न हो !!

सूर्य के जैसा तेज हो तेरा चान्द सा शीतल मन हो,
नदी के जैसे कल कल बेहना, समुद्र सा द्रड सन्कल्प हो !!

जडो से पानी है मजबूती सपनो पे ऐत्बार हो,
खुश रहो खुशिया बान्टो सदा, ये जीवन तेरा सफल हो !!

7 Comments

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' Gurcharan Mehta 13/07/2013
    • Muskaan 13/07/2013
  2. Poonam 13/07/2013
    • Muskaan 15/07/2013
  3. SUHANATA SHIKAN SUHANATA SHIKAN 18/07/2013
    • Muskaan 18/07/2013

Leave a Reply