आपकी इक हंसी का

आपकी इक हंसी का मोहताज दीवाना हूँ |
जिसे समां ने जला डाला वो अधजला परवाना हूँ|
मानों तो मै मैकसी का पूरा शराबखाना हूँ |
न मानों तो केवल ग़मों का ही तहखाना हूँ |

Leave a Reply