जुबाँ की तरकश से

जुबाँ की तरकश से अल्फाजो के तीर निकले |
सीने को डाला चीर तब मोहब्बत के पीर निकले |
पीरो ने बड़ाई पीर तब खुद के फकीर निकले |
सिजदा लगा के देखा तो दो चक्की के पीर निकले|

Leave a Reply