जन

मैं उस दुनिया में हूँ जो
सहस्त्रों चाँद से पटी है
किसी सूरज की नहीं
दिल की आग से चमकते हैं
ठण्डे पत्थर
घने से घने जंगल के पैर
धुल रहे हैं उजाले से

कुछ छोटा नहीं, लघु नहीं
हर इनसान के पीछे परेशानियों का
जुलूस
अगुवा है फिर भी
मेरा दोस्त
मेरा पड़ोसी
और हर थकान से निचुड़ कर
निकलती हैं गोल हँसियाकार
तीन-चौथाई लेकिन ताज़ा आवाज़
मेरे घुटे गले में भी
फड़फड़ाती गाती रहती है कविता।

Leave a Reply