सीख जिन्दगी की….

जिन्दगी की हर हार हमे कुछ सिखाती है,
हर अन्धेरे मे रोशनी की किरन नजर आती है !!

मुफ्लिसी इन्सान की पह्चान कराती है,
दर्द वो चाबी है जो प्यार और फरेब मे फरक समझाती है !!

माना दिल की सुनकर पछ्ताती है दुनिया,
पर सच है ठोकर खाकर ही इन्सान को समझ आती है !!

आन्ख से आन्सु बहते है जब,
तब ही खुशी की एहमियत समझ आती है !!

लाख सिखाया मां बाप ने जीना,
पर अकल आती तभी जब जिन्दगी रूप बदलती है !!

श्याम सवेरे सपने देखे प्यार भरे सन्सार के,
भूल गये थे दुनिया मे सपने देखने की सजा भी मिलती है !! जिन्दगी हर हार मे कुछ सिखाती है…….

22 June 2013

One Response

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' गुरचरन मेह्ता 23/06/2013

Leave a Reply