हम उनके इशारों पर कवि- विनय भारत

शेर- एक

हम उनके इशारों पर जोकर बन चुके ‘भारत’
और वो हैं कि
राज पे राज छुपाते चले गए

शेर- दो

जिंदगी ने ऐसे मोड पर लाकर खडा कर दिया” भारत”
दूर तक रेगिस्तान था और वापस मुड नहीं सके

कवि- विनय भारत

Leave a Reply