चंदन सा बदन चंचल चितवन

चंदन सा बदन चंचल चितवन
धीरे से तेरा ये मुस्काना
मुझे दोष न देना जग वालों – (२)
हो जाऊँ अगर मैं दीवाना
चंदन सा …

ये काम कमान भँवे तेरी
पलकों के किनारे कजरारे
माथे पर सिंदूरी सूरज
होंठों पे दहकते अंगारे
साया भी जो तेरा पड़ जाए – (२)
आबाद हो दिल का वीराना
चंदन सा …

तन भी सुंदर मन भी सुंदर
तू सुंदरता की मूरत है
किसी और को शायद कम होगी
मुझे तेरी बहुत ज़रूरत है
पहले भी बहुत मैं तरसा हूँ – (२)
तू और न मुझको तरसाना
चंदन सा …

Leave a Reply