लम्हो पर बैठी नज्मो को…

लम्हो पर बेठी नज्मो को
तितली जाल मे बन्द कर लेना
फिर काट के पर उन नज्मो को
अल्बम मे पिन करते रहना
जुल्म नही तो और किया है ?

लम्हे कागज पर गिर के ममियाये जाते है
नज्मो के रंग रह जाते है पोरों पर !!

Leave a Reply