फितरत नहीं है रिश्ते में

फितरत नहीं है रिश्ते में दिल के सामने वाले पे हक जताने की,

अगर रिश्ता जजबातों से जुडा है वो आप ही दूर ना रह पायेंगी,

मचल जायेंगे मिलन के वास्ते खुद ही से वो तनहा हो,

और इशारे बिना ही आकर गले से लिपट जयेंगी.

                                            ः-सुहानता “शिकन”

Leave a Reply