गिनती में याद हमें करना नहीं आता

गिनती में याद हमें करना नहीं आता ,

दिल पे आघात  हमें करना नहीं आता ,

आता है हमें सिर्फ उल्फत में ज्रीना,

बेरुखी भरी बात  हमें करना नहीं आता .

                         ः-सुहानता ‘शिकन”

One Response

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' गुरचरन मेह्ता 24/05/2013

Leave a Reply