बेवक्त मौसम आ जाए बहार का

बेवक्त मौसम आ जाए बहार का,

अप्सरा सी सज जाए वक्त इंतजार का,

जब भी वो गुजरें झरोखों से पलकों के,

भुल जाए पता दिल धडकन पे इख्तियार का.

                                            ः-सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply