दुआ ना कर अफसानों को पाने की

दुआ ना कर अफसानों को पाने की,

जो अपना ना माने उनपे हक जताने की,

सिसकियों में रह के कोई हंस सका है भला,

जो टुटे हुए दिल से कोशिश कर रहे मुस्कुराने की.

                                            ः- सुहानता “शिकन’

Leave a Reply