मदहोश नजर की

मदहोश नजर की सादगी में दीवने हो गए,

दिल अपना  अरमान दिल के पराए गए,

तारीफ को उनके रोज रोज नए अल्फाज खोजने पडतें हैं,

ऐसे करिश्माई आजकल उनके अदायें हो गए.

                                          ः- सुहानता “शिकन’

 

Leave a Reply