करते है क्यों लोग मोहब्बत…..

करते है क्यों लोग मोहब्बत, इतनी दर्द भरी दास्ताने सुनने के बाद,
क्यों ऐतबार नहीं खुद पे कि खुशियां मिलेंगी खुद को साथी बनाने के बाद ॥

आंखों मे आंसु दिल मे तन्हाई लिये होती है हर इश्क की दास्तान,
फिर भी क्यो हर कोई रोना चाह्ता है किसी पे मर मिटने के बाद ॥

नही होता प्यार के काबिल हर इन्सान,
फिर भी कितने ही दिल बर्बाद हो जाते है दिल लगाने के बाद ॥

केह्ते है शायर कि दर्द ही दर्द है इस दरिया मे,
फिर भी न जाने क्यों डूब जाना चाह्ते है लोग दर्द झेलने के बाद ॥

होती है चन्द हाथों में ही प्यार की वो लकीरें,
फिर भी कितने ही लोग हाथो की लकीरे ही मिटा बेठते है अक्सर प्यार करने के बाद ॥

झूठ बोलते है वो कि उन्हे दर्द नही होता,
मेने देखा है उन्हे तडपते हुए,अपने ख्वाब टूटने के बाद ॥

प्यार का दावा जो करते है पर करते नही प्यार तुमसे,
छोड दो उन्हे उन्ही के हाल पे, खुद ही टूट के बिखर जायेगे प्यार न मिलने के बाद ॥

गुजारिश है हर दिल से, न भागो झूठे यार के पीछे,
जला बेठोगे हर खुशी अपनी, उन्हे अपना कहने के बाद ॥

वक्त हर जख्म का मरहम है कह्ते है बडे बुजुर्ग,
कहती है ‘मुस्कान’ उसी दर्द से मिलती है जीने की नयी वजह, वक्त बीत जाने के बाद ॥

2 May 2013

3 Comments

  1. Tushar Raj Rastogi 02/05/2013
  2. Amarendra 10/05/2013
    • Muskaan 10/05/2013

Leave a Reply