ज़िन्दगी जीने का कभी कभी यह राज़ भी होता है,

ज़िन्दगी जीने का कभी कभी यह राज़ भी होता है,
एक ख्वाब टूटने के बाद ही दूसरा कोई ख्वाब होता है !
हो सके तो मेरी तरह भी जीकर देखना कभी,
टूटकर बिखरने वालों का अलग ही एक अंदाज़ होता है !! …… राज

4 Comments

  1. Muskaan 03/05/2013
    • Rajnish Sharma 03/05/2013
  2. Dharmendra Sharma 08/05/2013
    • Rajnish Sharma 13/05/2013

Leave a Reply