दुनिया के गम

दुनिया के गम फिजूल की फिकरों से बच गए
अच्छा हुआ की तुम मेरे शेरोन से बच गए

कर्फ्यू-जदा इलाके में तुम लोग भी तो थे
तुम लोग कैसे भेड़ियों, कुत्तों से बच गए

हरगिज़ बयां न दीजिए बाहर अमाँ न थी
कहिये की घर में कैद थे खर्चे से बच गए

इक चूक सारे मुहरों को अभिशिप्त कर गई
फर्जी से आ पिटे जो पियादों से बच गए

सिक्कों की ओट ले के सरलता से ‘एहतराम’
कातिल सभी पुलीस की नज़रों से बच गए

Leave a Reply