जिन्दगी तु आज मुझको ए बता ।

जिन्दगी तु आज मुझको ए बता ।                                                                                                                                                                                                                          कहाँ है तेरी मंजिल मुझको दे पता ।।

1- तुझको ढुढ़ा गीता और कुरान मेँ ।
    असफल हुआ मै इस जहाँन मेँ ।।
    बडे कठिन सफर है  कर सहायता ।
    कहाँ है तेरी मंजिल……जिन्दगी तु आज मुझको……

2- माँगी थी मैँने इक खुशी तेरे लिए ।
     गम भी नहीँ मिला मुझे मेरे लिए ।।
     हो गयी है मुझसे क्या कोई खता ।
     कहाँ है तेरी मंजिल…..जिन्दगी तु आज मुझको……

3- राह मेँ ही छोड़ के तु क्योँ गया ।
     मैँ ढुढ़ता रहा तुझे तु खो गया ।।
     हर वक्त बस रहा हूँ मैँ भटकता                                                                                                                                                                                                                                कहाँ है तेरी मंजिल….जिँदगी तु मुझको…..


4- सुना था मैँने तेरे ही इस नाम से ।
      डर गया मैँ कस्ती और तुफान से ।।
     इसलिए हूँ तुझको मै पुकारता ।
     कहाँ है तेरी मंजिल…..जिँदगी तु मुझको…

5-मुझको भी तु ले चल अपने साथ मेँ ।
    ना बीत जाये उम्र अँधेरी रात मेँ ।
    तेरे बगैर खुदा से कुछ न माँगता ।
    कहाँ है तेरी मंजिल…..जिँदगी तु मुझको…

 जिन्दगी तु आज मुझको ए बता ।

कहाँ है तेरी मंजिल मुझको दे पता ।।

Leave a Reply