आँधियाँ चलने लगी

आँधियाँ चलने लगी है फिर हमारे गाँव |
झर रहे खामोश पत्ते
उम्र से ज्यों छिन,
ज़िंदगी के चार में से
रह गए दो दिन |

खेत की किन क्यारियों में खो गई है छाँव ?

खेत सूखे जा रहे हैं
भूख से ज्यों देह,
मोर बैठा ताकता है
रिक्त होते मेह |

बोझ से जख्मी हुए पगडंडियों के पाँव |

रेत ने सब लील डाली
है नदी की धार,
भोगनी पड़ती गरीबों
को दुखों की मार |

ठूँठ होती टहनियों पर चील ढूँढे ठाँव |
♦♦♦

 रजनी मोरवाल
सी-204, संगाथ प्लेटीना,
साबरमती – गाँधीनगर हाईवे,
मोटेरा, अहमदाबाद – 380005
मो॰ 9824160612

Leave a Reply