भटके ख़यालात

भटके ख़यालात,यादों के फ़सादों से वीरान हो जाए!
महकते फूलों मे उनके बदन की खुश्बू ड़ूडंने मन जाए ,

सजन

Leave a Reply