ज़िन्दा-लाश

मेरी ज़िन्दा-लाश से आह भी न निकले वादा हम करे !
आहों से रिसती गज़ल,खामोशी से प्यार पे निछावर करे|

सजन

Leave a Reply