लाचारी

मालूम न था, बदगुमानों से इश्क का नतीज़ा,क्या करे,
किसी सूरत से, दिल को करार मिले, लाचारी क्या करे,

सजन

Leave a Reply