कसूर

उनका क्या कसूर ,आए ख़ुद मज़ाक अपना बनाने,
बेफिज़ूल इल्ज़ाम है, आग मे जलने आते परवाने|

सजन

Leave a Reply