कातिल नज़र

कर डालते क़त्ल नज़रों से,इशारों के कातिल नज़राने|
फ़कत नाज़ुक सा दिल, ले जाते क्यों ज़ालिम से तुड़ाने |

सजन

Leave a Reply