अज़ब

एक हसीं खुवाब सा खेल है , अज़ब ज़िंदगी का :
हर बार टूट जाता,फ़िर भी मैं इसी ख्वाव मे जीता |

सजन

Leave a Reply