इन्सानियत,

इन्ही कँधों पे ख़ुद की जिंदा लाश डो रहां हूँ ;

दफ़न कर इन्सानियत,इन्सान बना फ़िर रहा हूँ |

सजन

Leave a Reply