बचकानी-सी ख़्वाहिश

अजब सा भरम मेरा, “बचकानी-सी ख़्वाहिश है ”
लबों की थरथराहट “शब्दों” में दोहराना है |

सजन

Leave a Reply