उनसे मिली नजर तो चेहरा हुआ गुलाबी

वो हैं गुलाब जैसे,हर एक इक अदा गुलाबी
उनसे मिली नजर तो चेहरा हुआ गुलाबी

गुझिया खिलायी उसने,हाथों के अपने लाकर
मन मस्त हो गया और,मौसम हुआ गुलाबी

लेकिन खुमारी होली सर पे थी ऐसी छाई
मैं खुद हुआ गुलाबी उनको किया गुलाबी

तन,मन हुआ रंगीला,होली का रंग बिखरा
केसरिया, लाल, पीला, नीला, हरा, गुलाबी

भाभी ने छत से फेका रंग भर के बाल्टी में
नीचे खड़ा था भोलू कुरता हुआ गुलाबी

दुबे जी निकले घर से पुरे बदन को रंग के
बच्चों ने फेंका गोबर,गोबर हुआ गुलाबी

ठंडई के साथ बूटी जो भंग की चढ़ा ली
काला-कलूटा चेहरा भी दिख रहा गुलाबी

One Response

  1. अभि 28/01/2014

Leave a Reply