जिनके शब्द है अन्मोल

जिनके शब्द है अन्मोल,

जिनकी बाते गोल गोल;

जिनके दिल से निकल्ते है,

प्यारे – प्यारे बोल…

शब्दों की अहमियत,

पहचानतें है जो;

उनको बयान करना भी,

जानते है वो…

शब्दों मे जिनके,

न जात है  न पात;

हर किसी के लिये बस वो,

कविता बनाते दिन रात….

कवियो की कविता,

होती अन्मोल;

उन्के दिल की ममता,

झलकती इसमे चारों ओर….

लिखतें है जब,

अपने दिल का वो तराना;

डूब जाते है इसमे वो,

ना चाहते बाहर अना…

कवियो की कविता,

होती अन्मोल;

उनके दिल से निकलते है,

उनके प्यारे – प्यारे बोल………

 

Leave a Reply