बदलने का सुख

बदलने का सुख
ये उंगलियां
जो कभी इंगित होती थीं
दूसरों के घरों में
सूराख़ तलाशने
अब मुट्ठी बन
आकाश में लहराती हैं
और बनती हैं आवाज़
उन सूराख़ों को बंद करने के लिए

ये आंखें
अपनी चंचलता में
फिकरे कसती थीं
अब निगहबान हैं
बेआंखों की नगरी में
अकेली प्रयासरत

ये पांव
अपनी अकड़ में
ढाहते थे घरौंदे
तोड़ते थे खेतों की मेड़
अब बनाते हैं
पगडंडियां
उनके लिए

ये पूरा शरीर
जो कभी
सिर्फ़ अपना लगता था
अब
तिनके जोड़-जोड़
बना रहा है नई दुनिया
उनके लिए
सिर्फ़ उनके लिए।

Leave a Reply