सेलफ़ोन

सेलफ़ोन की घंटी बजती है
वह दौड़ पड़ती है
उठाती है, कानों में लगाती है
वह कुलबुलाती है
फिर कसमसाती है
फिर रौ में बह जाती है

सेलफ़ोन से आवाज़ें नहीं
दो हाथ निकले थे
हाथों का कसाव बढ़ता है
वह और बहती है
जब तक दोनों हाथ
सेलफ़ोन की आस्तीन में
वापस नहीं चले जाते

समय के दौर में
शब्दों/मुहावरों के अर्थ बदल जाते हैं
आस्तीन के हाथ
और आस्तीन के सांप
अलग-अलग ढंग से
परिभाषित हो जाते हैं।

Leave a Reply