बातों  ही बातों  में उनसे प्यार हुआ – SALIM RAZA REWA

  !! ग़ज़ल !!
बातों  ही बातों  में उनसे प्यार हुआ,
मत पूंछो की कैसे कब इक़रार हुआ [1]

जब से आँखे उनसे मेरी चार हुई,
इक पल भी जीना मेरा दुश्वार हुआ [2]

दिल की  बातें वो ऐसे पढ़ लेता है,
दिल ना  हुआ जैसे कोई अख़बार हुआ [3]

उनसे  ही   खुशियाँ है मेरे आंगन में,
उनसे ही रौशन मेरा घर बार हुआ [4]

मेरी धड़कन में वो ऐसे शामिल है,
जैसे मेरा यार मेरा दिलदार हुआ [5]

वो शरमाए जैसे शरमाए कलियाँ,
रफ्ता रफ्ता चाहत का इज़हार हुआ [6]

आँखों में उनका ही चेहरा दिखता है,
शोख़ हसीना का जब से दीदार हुआ [7]
10-.01-2013
9981728122

Leave a Reply