बटखरे

एक धरती, एक आकाश
हम साथ-साथ
एक दूसरे को
तराजू के पलड़े पर तौलते हुए

बिस्तर पर करवट बदलती ज़िन्दगियां
बटखरों की तरह
बंटे खानों में सजा कर
रख दी गई हों
नेपथ्य में
कभी न दिखाई जाने वाली
नुमाइश की तरह।

Leave a Reply