एक सपना है इन आँखों में

एक सपना है इन आँखों में,
जिसे अपना बनाना है !
बुलंद हैं हौसले,
वक़्त को ये यकीं दिलाना है !
बेरंग है दुनिया मेरी,
सुनहरे रंगों से इसे सजाना है !
एक सपना है इन आँखों में,
जिसे अपना बनाना है !

हार-जीत तो जीवन के पहलु हैं,
हर एक का जश्न मनाना है !
टूट कर बिखरना नहीं मुझे,
सबक लेकर आगे बढ़ जाना है !
एक सपना है इन आँखों में,
जिसे अपना बनाना है !
-श्रेया आनंद
(29th Jan 2013)

2 Comments

  1. Muskaan 16/04/2013
    • Shreya Anand Shreya Anand 31/12/2014

Leave a Reply