दिल की बाजी है वफा

दिल की बाजी है वफा का दाव है,

असलियत मे कुछ नही सब खयाली पुलाव है,

इश्क कि गली संकरी जिसमें चलते हुए ऐ गालिब,

खुद की परछाई से खुद का ही मनमुटाव है.

-सुहानता ‘शिकन

 

 

Leave a Reply