गुरु कौन है

गुरु कौन है, ये जाना ना था; इस लिये पोथी ले आया.

पहले पन्ने पर लिखा था, वोह तो है राया !

दूसरे पन्ने पर लिखा था, वोह तो है छाया !!

तीसरे  पन्ने पर लिखा था, वोह तो सिर्फ एक काया !!!

कई पन्ने पलटे, पर मन रहा भरमाया  ?

आख्रिरे  पन्ना इस लिये मैने जोडा; वोह तो है हमसाया !!!!

वोह तो है हमसाया !!!!!

Leave a Reply