किसी एक के नाम

मेरी आँखों में
तैरते हैं शब्द
तुम्हारे लिए
पढ़ सको तो पढ़ लो

मेरी साँसों पर
बजता है संगीत
तुम्हारे लिए
सुन सको तो सुन लो

स्पंदित हैं मेरे ओंठ
तुम्हारे लिए
छू सको तो छू लो

तुम्हारे लिए
मेरी बाँहें
बढ़ चुकी हैं
बाँध सको तो बाँध लो

एक संपूर्ण भाव
उठ रहा है हृदय में
तुम्हारे लिए
ले सको तो ले लो

बहती नदी, चंचल झरना
घुमक्कड़ राही, औघड़ मन
समझ सको तो समझ लो

प्यार का पहर है
कारवाँ गुज़र न जाए
रोक सको तो रोक लो ।

Leave a Reply