प्रेम

देखता हूँ प्रेम
बसंत की हर सुबह
सरसों के पीले फूलों पर

सुनता हूँ प्रेम
हर बारिश में
नन्हीं-नन्हीं बूंदों से

महसूसता हूँ प्रेम
हवाओं के ताल पर
बिखरते तेरे गेसुओं में

बाँटता हूँ प्रेम
जीवन में
आधा मुझे, आधा तुझे ।

Leave a Reply