मकान है घर नहीं

छत के शहतीर
कील बन रहे
आँगन की तुलसी
काँटेदार नागफ़नी

डायनिंग टेबुल पर
चाय के प्याले
काँच-काँच किरकिरे

साँझा चूल्हा पर
रोटियाँ नहीं
पक रहा है मन
धुएँ का वन
है ये मकान
परन्तु घर नहीं ।

Leave a Reply