आज का ताजमहल

यूँ न शुरू करो

हमारे बीच ,

इमारत यादगार की ,

बनते-बनते

इस तरह

एक दीवार

 खड़ी  हो जाएगी  ।

Leave a Reply